Friday, September 30, 2022

योग व चित्रकला के प्रतिभागी विद्यार्थियों को प्रदान किया प्रमाण पत्र

More articles


Publish Date: | Sun, 12 Jun 2022 11:28 PM (IST)

कोरबा (नईदुनिया न्यूज)। शासकीय इंजीनियरिंग विश्वसरैय्या स्नातकोत्तर महाविद्यालय कोरबा में ग्रीष्मकालीन कार्यक्रम अंर्तगत आयोजित गुणवत्ता पाठ्यक्रम के प्रतिभागियों एवं प्रशिक्षितों को प्रमाण पत्र व प्रशिक्षकों को सम्मान पत्र से सम्मानित किया गया।

महाविद्यालय में योग प्रशिक्षण एवं चित्रकला प्रशिक्षण प्रदान करन के लिए 30 घंटों का गुणवत्ता पाठ्यक्रम था। योग प्रशिक्षक के रूप में डी आनंद, सुनीता तिवारी व डा सचिन सिंह ने अपना मार्गदर्शन दिया। इसी प्रकार चित्रकला प्रशिक्षक के रूप में डा अजय कुमार मिश्रा, प्राध्यापक केएन कालेज, हरि क्षत्रीय, राहुल यादव एवं स्वाति राजवाड़े ने भी छात्र- छात्राओं को चित्रकला की बारिकिया से अवगत कराया। योग प्रशिक्षण के इस गुणवत्ता पूर्ण पाठ्यक्रम जो 30 घंटों का था उसका सफल आयोजन डा बीएस राव क्रीड़ाधिकारी स्नातकोत्तर महाविद्यालय एवं श्याम सुंदर तिवारी की अगुवाई में किया गया। चित्रकला के प्रशिक्षण कार्यक्रम में डा दिनेश श्रीवास व कन्हैया सिंह कंवर ने महत्वपूर्ण भूमिका निभायी। चित्रकला प्रशिक्षक डा अजय सिंह ने बहुत ही खुशनुमा अंदाज में अपने प्रशिक्षिण के अनुभव बताए। इस दौरान प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले सभी छात्र-छात्राएं बड़ी संख्या में उपस्थित रहे। छात्र रितेश यादव व छात्रा सुनीता ने भी 15 दिवसीय प्रशिक्षण के अनुभव बताते हुए उन्होंने प्रशिक्षकों के कुशल मार्गदर्शन, उत्साहवर्धक संभाषण एवं उत्प्रेरक कहानियों को इस प्रशिक्षण की विशेषता के रूप में उल्लेखित किया। सभी छात्र- छात्राओं ने अपने इस प्रशिक्षण को अपने निरंतर प्रयास से जारी रखने का वादा भी किया। 15 दिवसीय गुणवत्ता पाठ्यक्रम की योग कक्षाओं में महाविद्यालय के प्राध्यापक डा बीएल साय, डा एमएल अग्रवाल, बलराम कुर्रे, डा संजय यादव भी उपस्थित रो। डॉ. साय ने भी योग प्रशिक्षण की उपयोगिता बताते हुए वर्तमान समय में स्वस्थ्य जीवन शैली के लिए इसे अत्यंत आवश्यक बताया साथ ही स्वयं भी निरंतर योग जारी रखने का वचन भी दिया। महाविद्यालय के प्राचार्य डा आरके सक्सेना योग एवं चित्रकला के प्रशिक्षकों ने प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र प्रदान कर सम्मानित किया। कार्यक्रम के अंत में एसएस तिवारी ने धन्यवाद व संचालन डा दिनेश श्रीवास ने किया।

कौशलपूर्ण गतिविधियों को रोजगार के रूप में अपनाएं

अपने उद्बोधन में प्राचार्य डा आरके सक्सेना ने गुणवत्ता कार्यक्रम के 15 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम की महत्ता बताते हुए छात्र- छात्राओं को कौशलयुक्त होने का आह्वान किया। साथ ही इस कौशलपूर्ण योग एवं चित्रकला को अपने भावी रोजगार के रूप में अपनाने की सलाह दी। डा बीएस राव ने इस प्रशिक्षण के अनुभव बताते हुए इसे छात्र उपयोगी बताया। सामूहिक प्रयास सदैव उत्साहवर्धक होता है, इसका उदाहरण देकर बताया कि योग के कठिन आसनों को भी छात्र- छात्राओं ने सहजता से सीखा। योग प्रशिक्षक डा सचिन सिंह ने भी अपने अनुभव साझा करते हुए महाविद्यालयीन आयोजकों व प्रशिक्षण ग्राही छात्र- छात्राओं की प्रशंसा की।

Posted By: Nai Dunia News Network

 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest