Sunday, October 2, 2022

मौसम की खबर: सप्ताभर में जिले में केवल सवा इंच बारिश, बढ़ने लगी किसानों की चिंता, गर्मी ने भी बढ़ाई परेशानी

More articles


बिलासपुर2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

गुरुवार की शाम को शहर के कई इलाकों में तेज बारिश हुई। कहीं-कहीं पानी भी जमा हो गया।

23 से 29 जून के बीच यानी सप्ताहभर में जिले में महज सवा इंच बारिश हुई। यानी केवल 31 इंच औसत वर्षा। इसमें 27 जून को तो पानी ही नहीं गिरा। 24 जून को ही अच्छी यानी 15 मिमी वर्षा हुई। कम बारिश से किसानों की चिंता बढ़ने लगी है। क्योंकि जो किसान रोपाई करना चाहते हैं, वे चाहते हैं कि पर्याप्त बारिश हो। हालांकि खुर्रा बोनी वाले जरूर कम बारिश से खुश हैं। इधर बारिश कम होने की वजह से गर्मी महसूस हो रही है। उमसभरी गर्मी से लोग परेशान हो रहे हैं। गुरुवार को शहर का अधिकतम तापमान 33.8 डिग्री दर्ज हुआ जो कि सामान्य से एक डिग्री अधिक रहा।

मानसून आने के बाद किसानों को अच्छी बारिश की उम्मीद थी। उन्हें लग रहा था कि अच्छी बारिश होने से खेती-किसानी के काम में तेजी आएगी। शुरुआत में तेजी आई भी लेकिन फिर से यह धीमी हो गई। उसकी वजह कम बारिश है। एक सप्ताह पहले महज 12 फीसदी खेतों में बोनी हो सकी थी। इस सप्ताह तो कम बारिश हुई। ऐसे में नहीं लगता कि बहुत ज्यादा आंकड़े में अंतर आया होगा। अभी कृषि विभाग के पास बोनी की मौजूदा जानकारी नहीं है पर करीब 17 फीसदी बोनी का काम पूरा होने का अनुमान जताया जा रहा है।

बता दें कि इस साल खरीफ सीजन में धान का रकबा 5 हजार हेक्टेयर से ज्यादा घटाने की तैयारी है। यहीं वजह है कि कृषि विभाग ने इस बार धान की खेती का लक्ष्य कम रखा है। वहीं किसानों को इसके लिए जागरूक करने का प्रयास भी किया गया है। इस बार 1 लाख 69 हजार 250 हेक्टेयर में धान की खेती करने का लक्ष्य कृषि विभाग ने रखा है जबकि पिछले साल 1 लाख 74 हजार 550 हेक्टेयर में धान की खेती हुई थी। वहीं कुल अनाज का प्रस्तावित लक्ष्य 1 लाख 70 हजार 820 हेक्टेयर रखा गया है। वहीं पिछले साल यह 1 लाख 74 हजार 920 हेक्टेयर था।

शाम को आधे घंटे तक तेज बारिश
इधर दोपहर में धूप निकली और 33.8 डिग्री अधिकतम तापमान होने की वजह से गर्मी का अहसास हुआ लेकिन शाम को कुछ इलाकों में बारिश हुई। शाम 5.30 बजे तक 4.8 मिमी वर्षा दर्ज की गई। वहीं शाम को 6 बजे के बाद शहर के अधिकांश इलाकों में तेज बारिश हुई। आधे घंटे तक तेज बारिश होने से सड़कों में पानी भर गया।

नाला जाम, जतिया तालाब की बाउंड्री ढहने से गाय घायल
गुरुवार की शाम आध घंटे के करीब हुई बारिश के दौरान ओमनगर की तीन गलियों में पानी भर गया। एेसा नाला की सफाई नहीं होने, नाला जाम होने के कारण हुआ। सड़क, गलियों पर नाले, नालियों का गंदा पानी बहता रहा। निकासी के लिए कोई इंतजाम रात तक नहीं किया गया। एल्डरमैन काशी रात्रे का आरोप है कि नाला सफाई नहीं होने के कारण जल भराव की समस्या उत्पन्न हुई। लिटिल फ्लावर स्कूल, मस्जिद गली और गुप्ता आटा चक्की, कटहल गली में जल भराव से लोग परेशान रहे। वहीं जतिया तालाब की बाउंड्री ढह जाने से मानिकपुरी के घर की गाय घायल हो गई। गाय की कमर टूट गई है।

बिना नींव बनाई जा रही थी बाउण्ड्रीवाल
जतिया तालाब के सौंदर्यीकरण के लिए 6.50 करोड़ के वर्क आर्डर पर काम चल रहा है। मौके पर बिना नींव के बाउंड्री बनाई जा रही थी, जिसका 30 मीटर हिस्सा बारिश में ढह गया। घटनास्थल पर मवेशी की जगह यदि कोई इंसान होता तो उसकी जान ही चली जाती।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest