Wednesday, October 5, 2022

बस्तर के 7 जिलों में पेट्रोल-डीजल का संकट: 70% पंप में पेट्रोल-डीजल नहीं; जहां उपलब्ध, वहां आज खत्म हो जाएगा स्टॉक

More articles


जगदलपुर10 घंटे पहले

छत्तीसगढ़ के बस्तर में पिछले कुछ दिनों से पेट्रोल-डीजल की भारी किल्लत देखने को मिल रही है। जगदलपुर, दंतेवाड़ा, नारायणपुर जैसे मुख्य शहरों में करीब 70% पेट्रोल पंप में ईंधन खत्म हो गया है। यदि कुछ में है भी तो उसका स्टॉक आज रात तक खत्म होने जाएगा। यदि पंप में ईंधन नहीं पहुंचता है तो पेट्रोल-डीजल की कमी से लोगों की मुश्किलें और बढ़ जाएगी। इधर, दंतेवाड़ा के जिन पेट्रोल पंपों में पेट्रोल मिल रहा है वहां लिमिट तय कर दी गई है। ऐसे में लोग काफी परेशान हो रहे हैं।

दरअसल, आरंग के इंडियन ऑयल डिपो और विशाखापट्टनम से बस्तर में पेट्रोल-डीजल की आपूर्ति की जाती थी। अब विशाखापट्टनम से पेट्रोल-डीजल नहीं आ रहा है। आरंग के इंडियन ऑयल डिपो से पेट्रोल मंगवाया जा रहा है लेकिन वह भी पर्याप्त नहीं हो रहा है। पेट्रोल पंप संचालकों ने कहा कि सामान्य दिनों में पेट्रोल की मांग पर ज्यादा से ज्यादा 5 से 6 दिन का समय लगता था और पेट्रोल-डीजल का स्टॉक आसानी से आ जाता था। अब हालात ऐसे हो गए हैं कि डीडी जमा करने के 15 दिन के बाद भी पेट्रोल नहीं मिल रहा है। कई पंप ड्राई आउट हो गए हैं।

सुबह से ही गाड़ियों की कतार लगी है।

70 प्रतिशत पेट्रोल पंप खाली
जगदलपुर, दंतेवाड़ा, नारायणपुर समेत अन्य जिलों के करीब 70% पेट्रोल पंप ड्राई आउट हो चुके हैं। बस्तर जिले समेत जगदलपुर शहर में कुल 43 पेट्रोल पंप हैं, जिनमें 17 से 18 पेट्रोल पंप में ही पेट्रोल-डीजल का थोड़ा-बहुत स्टॉक बचा है। जहां पेट्रोल डीजल के लिए लोगों की लंबी लाइन लगी हुई है। जबकि बाकी के पेट्रोल पंप ड्राई आउट हो गए हैं। नारायणपुर जिले में भी इक्का-दुक्का पेट्रोल पंप में ही पेट्रोल है। इधर, दंतेवाड़ा में नेशनल हाईवे में गीदम शहर का पेट्रोल पंप ड्राई आउट हो गया है। हारम पारा के पंप में ईंधन उपलब्ध है। लेकिन, वह भी शाम तक खत्म हो जाएगा।

इन गाड़ियों के लिए लिमिट तय
जगदलपुर-बीजापुर नेशनल हाईवे में स्थित हारम के पेट्रोल पंप में लिमिट तय कर दी गई है। एक दिन पहले ही पेट्रोल-डीजल का स्टॉक आया था। सुबह 5 बजे टैंकर खाली हुआ। जब लोगों को इसकी जानकारी मिली तो सुबह 6 बजे से पेट्रोल पंप में गाड़ियों की लाइन लग गई। हर किसी को पेट्रोल की आपूर्ति हो जाए इसलिए पंप संचालकों ने लिमिट तय कर दी है। जिनमें ट्रक को 200 लीटर, छोटी गाड़ियों को 1000 से 1500 रुपए का और दुपहिया वाहनों को 150 से 300 रुपए तक का ही पेट्रोल दिया जा रहा है। हालांकि, जिन्हें इमरजेंसी है उन्हें दूरी के आधार पर डीजल उपलब्ध कराया जा रहा है। एम्बुलेंस के लिए लिमिट तय नहीं की गई है।

ट्रकों को 200 लीटर पेट्रोल डाला जा रहा है।

ट्रकों को 200 लीटर पेट्रोल डाला जा रहा है।

गाली-गलौच से लेकर हाथापाई तक की आई नौबत
हारम पेट्रोल पंप के कर्मचारियों ने बताया कि पेट्रोल-डीजल की कमी का गुस्सा लोग अब कर्मचारियों पर उतार रहे हैं। बुधवार की रात पेट्रोल लेने आए कुछ लोगों को जब बताया कि ईंधन नहीं है तो उन्होंने गाली-गलौज करनी शुरू कर दी। मारपीट करने तक की नौबत आ गई थी। पंप के कर्मचारियों का कहना है कि, बाहर से पेट्रोल-डीजल नहीं आ रहा है। जितना है उसमें हम लोगों की आवश्यकताओं के अनुसार उसे पूरा कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest