Sunday, October 2, 2022

प्रेमिका की हत्या कर शव दीवान में छिपाया आजीवन कारावास

More articles


Publish Date: | Tue, 12 Jul 2022 10:49 PM (IST)

कोरबा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। महिला की हत्या के चार साल पुराने एक मामले में न्यायालय ने आरोपित युवक को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। युवक ने फेसबुक में महिला से दोस्ती करने के बाद उसके साथ रहने लगा था। चरित्र संदेह को लेकर दोनों के मध्य विवाद होने लगा। रात को गला घोंट कर हत्या करने के बाद शव को घर के दीवान के अंदर डाल निकला। छह दिन बाद स्वजनों ने पतासाजी की, तो यह घटना सामने आई।

यह मामला मानिकपुर पुलिस चौकी अन्तर्गत कृष्णानगर की है। यहां निवासरत सुप्रिया (33 वर्ष) के पति का निधन एक वर्ष पहले हो चुका था। घर पर सुप्रिया अकेले रहती थी, उसके दो बच्चे अपने नानी के घर कोंडागांव में रह कर पढ़ाई करते थे। सुप्रिया की दोस्ती फेसबुक के माध्यम से महाराष्ट्र के चाकन थाना क्षेत्र निवासी रानू शुक्ला दास उर्फ संदीप दास से हो गई। बात बढ़ते हुए शादी तक जा पहुंची और वह महाराष्ट्र से कोरबा कृष्णानगर आ गया और उसके साथ रहने लगा। अभी उसे आए एक सप्ताह ही हुआ था कि दोनों के बीच विवाद होने लगा। उसका कहना था कि दिन भर घर में संदिग्ध लोगों का आना जाना लगा रहता था। चरित्र संदेह को लेकर दोनों के मध्य विवाद होने लगी। इससे नाराज होकर रानू ने सुप्रिया की हत्या की योजना बना ली और 22-23 जनवरी 2019 की रात सुप्रिया का गला दबा कर उसकी हत्या कर दी और शव को पहले प्लास्टिक में लपेटा और उसके उपर चादर लपेट कर दीवान में छिपा दिया। सोने चांदी के जेवर एटीएम कार्ड आदि लेकर फरार हो गया। सुप्रिया के स्वजन 29 जनवरी 2019 को एक वैवाहिक कार्यक्रम में नहीं पहुंचने पर उसे मोबाइल पर संपर्क करने का प्रयास किया, पर रिसीव नहीं हुआ। तब पड़ोसी से संपर्क कर सुप्रिया का हाल जाना। इस दौरान बताया गया कि घर के दरवाजे में कई दिनों से ताला लगा हुआ है। इसकी सूचना पुलिस को दी गई, ताला तोड़ने पर शव बरामद हुआ। आरोपित को पुलिस महाराष्ट्र से गिरफ्तार कोरबा ले आई। उसके खिलाफ धारा 302, 201, 380 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर मामला न्यायालय में पेश किया गया। सुनवाई के बाद सत्र न्यायाधीश डीएल कटकवार ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई।

बच्चे से अप्राकृतिक कृत्य, दस साल की कठोर सजा

एक अन्य मामले में एक नाबालिग बच्चे के साथ अप्राकृतिक घटना को अंजाम देने वाले युवक को 10 साल की सजा न्यायालय ने सुनाई है। यह घटना कोतवाली थाना क्षेत्र में 15 अक्टूबर 2020 में यह घटना सुबह 11 बजे के आसपास हुई। आरोपित कुंदन कुमार के घर पड़ोस में रहने वाला एक बच्चा पहुंचा था उस वक्त आरोपित मोबाइल में पेन ड्राइव लगा कर अश्लील फिल्म देख रहा था। उसने पहले बच्चे को अश्लील फिल्म दिखाई और जब वापस घर जाने लगा तो उसका हाथ पकड़ कर अप्राकृतिक कृत्य किया। न्यायालय ने आरोपित को दस साल कठिन कारावास व 500 रुपये जुर्माना की सजा सुनाई है।

Posted By: Nai Dunia News Network

 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest