Friday, September 30, 2022

‘पारस पत्थर’ के लिए बुजुर्ग का कत्ल: पूजा-पाठ कराने के बहाने ले गए, फिर पीट-पीटकर हत्या की; महिला समेत 10 गिरफ्तार

More articles


जांजगीर-चांपा12 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

आरोपियों की मौजूदगी में शव को निकाला गया।

छत्तीसगढ़ के जांजगीर-चांपा जिले में पारस पत्थर के लिए बुजुर्ग की हत्या कर दी गई। आरोपियों को शक था कि बुजुर्ग के पास ऐसा पत्थर है, जो किसी भी लोहे को छू दे तो वह सोना बन जाएगा। इसलिए उसी पत्थर को पाने वे उसे पूजा पाठ के बहाने अपने साथ जंगल ले गए थे। फिर जंगल में ही उसे-पीट-पीट कर मार दिया। इसके बाद उसके शव को जंगल में ही दफना दिया था। इस मामले में पुलिस ने अब एक महिला समेत 10 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। मामला जांजगीर थाना क्षेत्र का है।

मुनुंद गांव निवासी बाबूलाल यादव(70) गांव में झाड़ फूंक का काम करता था। वो यहां अपने गांव में पत्नी रामवती यादव के साथ रहता था। बताया गया था कि वह 8 जुलाई से घर से निकला था। उसकी पत्नी ने बताया था कि कुछ लोग घर आए थे और पूजा पाठ के बहाने के घर से ले गए थे। मगर 2 दिन बाद तक वह लौटे ही नहीं थी। जिसके बाद उसकी पत्नी ने मामले की शिकायत 10 जुलाई को कर दी थी।

मामले में शिकायत होने के बाद पुलिस ने जांच शुरू की। पहले इस बात का पता लगाया गया कि 8 तारीख को बाबूलाल के घर कौन आया था। जांच में पुलिस को कुछ नाम पता चल थे। इसी आधार पर पुलिस ने टेकचंद जायसवाल, राजेश हरवंश को हिरासत में लिया था। पूछताछ में ही उन्होंने अपना जुर्म कबूल कर लिया।

बुजुर्ग ने कहा-नहीं है कोई पत्थर

उन्होंंने बताया कि हमे पता चला था कि बाबूलाल के पास पारस पत्थर( एक ऐसा पत्थर जो किसी लोहे को छू दे तो वह सोना बन जाए) है। इसलिए हमने रामनाथ श्रीवास, मनबोधन यादव, छवी प्रकाश, यासिन खान, खिलेश्वर पटेल, तेजराम पटेल, अंजू पटेल, सतीश केसकर के साथ मिलकर योजना बनाई थी कि बाबूलाल से वह पत्थर ले लेंगे। इसी प्लान के तहत हम उसके घर गए थे। वहां से हम उसे पूजा पाठ करवाने का बहाना बनाकर अपने साथ कटरा के जंगल ले गए। यहां हमने उससे काफी पूछताछ की बता दे कि वह पत्थर कहां है। मगर उसने पत्थर होने से इनकार दिया था।

घर जाकर तलाश किया, कई जगह गड्ढे कर दिए

आरोपियों ने बताया कि उसने जब काफी बार इनकार किया तो हम उसी रात उसके घर गए। इसके बाद हमने उसके घर में भी पत्थऱ् काफी खोजा। लेकिन पत्थर नहीं मिला। यहां तक की घर में गई जगह गड्‌ढे भी कर दिए। फिर भी हमे पत्थर नहीं मिला। इसके बाद हम घर में रखे जेवर और 23 हजार कैश लेकर वहां से फिर से ंजंगल की ओर आ गए थे।

वो मना करता रहा, ये पीटते रहे

बताया गया कि जंगल में लौटने के बाद आरोपियों से फिर से पूछताछ की थी। लेकिन बाबू लाल उन्हें इनकार करता रहा। इसी बात पर ये सभी लोग नाराज हो गए और सभी ने मिलकर लात-घूंसों से उसे इतना पीटा कि उसकी मौत हो गई थी। ये सब कुछ 8 जुलाई की रात को हुआ था। मारने के बाद सभी ने शव को जंगल में ही छिपा दिया।

अगले दिन आकर जमीन में गाड़ा शव

अगले दिन फिर से सभी जंगल गए और गड्‌ढा करके शव को दफना दिया गया था। अब पुलिस ने इनकी ही निशानदेही पर शव को निकाला है। मंगलवार को पूरे मामले का खुलासा किया किया है। पुलिस ने आरोपियों से 9 हजार कैश और जेवर बरामद कर लिए हैं। इसके अलावा एक पिस्टल भी जब्त किया गया है।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest