Tuesday, October 4, 2022

ध्यान से सहज समाप्त हो जाता है तनाव: बीके मंजू

More articles


Publish Date: | Sun, 12 Jun 2022 05:44 PM (IST)

बिलासपुर। प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय टिकरापारा प्रभु दर्शन भवन में रविवार की विशेष क्लास में साधकों को परमात्मा महावाक्य सुनाते हुए टिकरापारा सेवाकेंद्र संचालिका ब्रम्हाकुमारी मंजू दीदी ने कहा कि जून मास हम सभी के लिए विशेष तपस्या मास है। तपस्या अर्थात एक परमात्मा की स्मृति हमारे हृदय में बसी हो। परमात्मा से हमें अविनाशी भाग्य प्राप्त है। अविनाशी भाग्य को हमेशा अविनाशी रखना है। यह सिर्फ सहज अटेंशन देने की बात है। टेंशन वाला अटेंशन नहीं सहज अटेंशन हो और मुश्किल है भी क्या।

बीके मंजू ने कहा कि परमात्मा की सत्य पहचान मिली। परमात्मा बीज है और बीज में सृष्टि का सारा आदि मध्य अंत का ज्ञान समाया हुआ है। परमात्मा कहते हैं कि मुझसे जो भी खजाने तुम्हें प्राप्त हुए हैं, उन खजानों को जमा करो, बढ़ाओ, व्यर्थ से बचाओ। श्वास का खजाना, संकल्प का खजाना, गुणों का खजाना, समय का खजाना, शक्तियों का खजाना, ज्ञान का खजाना। सभी खजाने जितना स्व के प्रति और औरों के प्रति शुभ वृत्ति से कार्य में लगाएंगे, उतना जमा होता जाएगा, बढ़ता जाएगा।

गुणों व शक्तियों को कार्य में लगाओ तो बढ़ते जाएंगे। मनुष्य को प्राप्त गुण व शक्तियां परमात्मा का दिया प्रसाद है। प्रभु देन को मेरा मानना यह महापाप है। प्रभु प्रसाद को अपना मानना यह अभिमान और अपमान करना है। इसलिए परमात्मा दाता को कभी भूलना नहीं चाहिए। ब्रह्माकुमारी मंजू दीदी ने आगे कहा कि मिले हुए खजाने को सफल करो। अपने ईश्वरीय संस्कारों को भी सफल करो तो व्यर्थ संस्कार स्वत: ही चले जाएंगे। ईश्वरीय संस्कारों को कार्य में नहीं लगाते हो तो वह लाकर में रहते और पुराना काम करते रहते हैं।

कई की आदत होती है बैंक में या आलमारियों में रखने की बहुत अच्छे कपड़े होंगे, पैसे होंगे, चीजें होंगी लेकिन यूज फिर भी पुराने करेंगे । इसलिए मिले हुए ईश्वरीय संस्कारों को कार्य में लगाओ, सफल करो। सफल करना ही सफलता की चाबी है सिर्फ अपने में ही खुश नहीं होते रहो। ऐसा करने के लिए हमेशा उमंग उत्साह बनाए रखना चाहिए। सदा उमंग उत्साह में रहो तो आलस्य भी खत्म हो जाएगा और अपने मूल लक्ष्य को आसानी से प्राप्त कर सकेंगे।

Posted By: Abrak Akrosh

 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest