Monday, October 3, 2022

छत्तीसगढ़ में बाढ़ का खतरा, आंध्र प्रदेश से संपर्क टूटा: गोदावरी के बैक वॉटर से शबरी उफान पर, NH-30 पर 5 फीट पानी

More articles


​​​​​​​कोंटा44 मिनट पहले

महाराष्ट्र और तेलंगाना में पिछले एक सप्ताह से हो रही मूसलाधार बारिश ने छत्तीसगढ़ में भी जन जीवन अस्त-व्यस्त कर दिया है। बारिश के चलते प्रदेश के नदी-नाले उफान पर आ गए हैं। गोदावरी नदी के बैक वॉटर से अब सुकमा स्थित शबरी नदी उफान पर आ गई है। नदी का पानी सड़क पर आने के कारण सोमवार देर रात छत्तीसगढ़ का आंध्र प्रदेश से संपर्क टूट गया है। दोनों राज्यों को जोड़ने वाला नेशनल हाईवे-30 डूब चुका है।

नेशनल हाईवे डूबने के बाद जान जोखिम में डालकर पार करता ग्रामीण।

गोदावरी ने तेलंगाना के भद्राचलम में भयंकर रूप ले लिया था। तीन दिनों से लगातार नदी का जल स्तर बढ़ने के कारण भद्राद्री कोत्तगुडम जिले के सब कलेक्टर ने तीनों वार्निंग लेवल की घोषणा कर दी थी। हालांकि गोदावरी में जल स्तर की बढ़ोतरी सोमवार शाम से धीमी हो गई है। इसके बाद प्रशासन ने मंगलवार सुबह तीसरा वार्निंग लेवल (53) फीट से कम होने के बाद वापस ले लिया है, लेकिन इसका असर पर शबरी पर दिखाई देने लगा है।

हाईवे बंद होने से कोंटा-चट्टी बॉर्डर पर फंसे वाहन।

हाईवे बंद होने से कोंटा-चट्टी बॉर्डर पर फंसे वाहन।

शबरी नदी खतरे के स्तर पर

शबरी में बैक वॉटर की समस्या हो गई है। जिसके कारण सुकमा के कोंटा में नदी का स्तर खतरे की घंटी के पास पहुंच गया है। इसी के चलते कोंटा और चट्टी के बीच विरापुराम पुलिया के पास नेशनल हाईवे-30 पर करीब 5 फीट पानी भर गया है। दोनों ओर से माल वाहक वाहनों और यात्री बसों की लंबी लाइन लग गई है। छत्तीसगढ़ का अंतिम छोर पर बसा कोंटा आंध्र प्रदेश और तेलंगाना बॉर्डर पर है। ऐसे में दूसरे राज्यों को जोड़ने का प्रमुख मार्ग है।

कोंटा की ओर जाने वाले रास्ते पर शबरी का पानी पहुंच गया है। यह इलाका डुबान क्षेत्र में आता है।

कोंटा की ओर जाने वाले रास्ते पर शबरी का पानी पहुंच गया है। यह इलाका डुबान क्षेत्र में आता है।

कोंटा में डुबान क्षेत्र में बढ़ रहा पानी

शबरी नदी के जल स्तर से बाढ़ का खतरा पड़ोसी राज्य आंध्र प्रदेश के चिंतुर पर है। वहां पुल के नीचे बाजार स्थल और चिंतुर से वीआरपुरम सड़क पर शबरी का पानी आधी रात को पहुंच गया है। फिलहाल कोंटा में डुबान क्षेत्र वार्ड क्रमांक 15 पुरानी बस्ती की तरफ शबरी का पानी बढ़ रहा है। अभी की स्थिति में 13 मीटर के आसपास शबरी का जल स्तर दर्ज किया गया है। 13.5 मीटर पर पहला वार्निंग लेवल जारी किया जाएगा।

सुकमा में बच्चे को बर्तन में बिठाकर उफनाया बरसाती नाला पार करते ग्रामीण।

सुकमा में बच्चे को बर्तन में बिठाकर उफनाया बरसाती नाला पार करते ग्रामीण।

बर्तन में बच्चों को बिठाकर उफनता नाला पार कर रहे ग्रामीण

इस बीच सुकमा से हैरान और डराने वाली तस्वीर आई है। जिला मुख्यालय से महज 15 किमी दूर बारिश से हालात भयावह हो गए हैं। बरसाती नाले और नदियां उफान पर हैं। ऐसे में भी मजबूरी के चलते ग्रामीण अपनी और बच्चों की जान जोखिम में डाल रहे हैं। बच्चों को बड़े से बर्तन में बिठाकर नाला पार करा रह हैं। दूसरी ओर जिला प्रशासन ने स्थानीय अधिकारियों को समय रहते हुए डुबान क्षेत्रों से सुरक्षित स्थान पहुंचाने के निर्देश दिए हैं।

कुनावरम में पुल को छूते हुए शबरी नदी बह रही है।

कुनावरम में पुल को छूते हुए शबरी नदी बह रही है।

बस्तर में बारिश का रेड अलर्ट

बीजापुर और नारायणपुर जिलों के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया है। एक सप्ताह से भारी बरसात से जूझ रहे बीजापुर जिले में बाढ़ का खतरा बढ़ गया है। बस्तर संभाग के ही सुकमा, दंतेवाड़ा, कोण्डागांव, बस्तर और रायपुर संभाग के महासमुंद में भी भारी से अति भारी बरसात का आरेंज अलर्ट है। मौसम विभाग की ओर से बताया गया है कि बीजापुर और नारायणपुर जिलों में एक-दो स्थानों पर गरज-चमक के साथ अति भारी बरसात की संभावना है। वज्रपात पर हो सकता है।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest