Tuesday, October 4, 2022

छत्तीसगढ़ में बरसे बादल: जगदलपुर में 32 मिमी बरसात हुई, रायपुर, बिलासपुर, अंबिकापुर, सहित कई जिलों में पानी, रात 10 बजे तक वज्रपात की चेतावनी

More articles


  • Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Raipur
  • Rain In Chhattisgarh: 32 Mm Of Rain Fell In Jagdalpur, Water In Many Districts Including Raipur, Bilaspur, Ambikapur, Thunderstorm Warning Till 10 Pm

रायपुर3 घंटे पहले

छत्तीसगढ़ में स्थानीय मौसमी तंत्र की वजह से बस्तर से सरगुजा तक बड़े क्षेत्र में बरसात हुई है। सबसे अधिक 32.2 मिलीमीटर बरसात तो जगदलपुर में दर्ज की गई है। यह इस सीजन की सबसे भारी बरसात है। उसके अलावा रायपुर के तिल्दा, बिलासपुर, अंबिकापुर, बलरामपुर, गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही, महासमुंद, कबीरधाम, बेमेतरा, राजनांदगांव, दुर्ग और बालोद जिलों में भी बरसात हुई है। मौसम विभाग ने अगले चार घंटों यानी रात 10 बजे तक आकाशीय बिजली गिरने अथवा अंधड़ उठने की चेतावनी जारी की है।

मौसम विभाग की ओर से शाम 6.10 पर जारी चेतावनी के मुताबिक 22 से अधिक जिलों में आकाशीय बिजली गिरने अथवा अंधड़ उठने की संभावना बन रही है। इसमें कांकेर, धमतरी, कोण्डागांव, बालोद, गरियाबंद, राजनांदगांव, दुर्ग, रायपुर बलौदा बाजार, महासमुंद, जांजगीर-चांपा, बेमेतरा, कवर्धा, मुंगेली, बिलासपुर, कोरिया, रायगढ़, कोरबा, पेण्ड्रा रोड, सूरजपुर, बलरामपुर, सरगुजा और उससे लगे जिले शामिल हैं।

मौसम बदलने से लोगों को गर्मी से राहत मिली है।

रायपुर मौसम विज्ञान केंद्र ने बताया था, एक पूर्व-पश्चिम द्रोणिका पूर्वी उत्तर प्रदेश से मणिपुर तक स्थित है। एक उत्तर-दक्षिण द्रोणिका दक्षिण-पूर्व उत्तर प्रदेश से दक्षिण छत्तीसगढ़ तक 0.9 किलोमीटर ऊंचाई तक विस्तारित है। इस स्थानीय मौसमी तंत्र के प्रभाव से प्रदेश के अनेक स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने अथवा गरज – चमक के साथ छींटे पड़ने की संभावना बन रही है। इस दौरान बादलों में गरज-चमक के साथ आकाशीय बिजली गिरने तथा अंधड़ चलने की भी संभावना जताई गई थी।

मौसम विभाग से जारी इस उपग्रह तस्वीर में वज्रपात और अंधड़ प्रभावित क्षेत्रों को देखा जा सकता है।

मौसम विभाग से जारी इस उपग्रह तस्वीर में वज्रपात और अंधड़ प्रभावित क्षेत्रों को देखा जा सकता है।

कल भी सिस्टम अनुकूल, बरसात होगी

मौसम विभाग के मुताबिक अभी एक पूर्व-पश्चिम द्रोणिका उत्तर-पश्चिम उत्तर प्रदेश से असम तक स्थित है। एक उत्तर-दक्षिण द्रोणिका दक्षिण बिहार से दक्षिण तटीय आंध्र प्रदेश तक स्थित है। इसके प्रभाव से 16 जून को प्रदेश के अनेक स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने अथवा गरज-चमक के साथ छींटे पड़ने की संभावना है। प्रदेश में एक-दो स्थानों पर गरज-चमक के साथ वज्रपात और अंधड़ भी चलने की संभावना है। बताया जा रहा है, वर्षा का सिलसिला अब लगातार बने रहने की संभावना है।

तेज हवा के साथ हुई बारिश

तेज हवा के साथ हुई बारिश

बरसात की वजह से ठंडा हुआ मौसम

अधिकांश हिस्सों में हुई बरसात की वजह से दिन का मौसम रोज की अपेक्षा काफी ठंडा हो गया। बुधवार को मुंगेली में सबसे अधिक 40.3 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया। बिलासपुर और पेण्ड्रा रोड में अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस रहा। वहीं दुर्ग में 39.4 और राजनांदगांव में 38.8 डिग्री सेल्सियस का तापमान दर्ज हुआ है। जगदलपुर का अधिकतम तापमान 34.3 डिग्री सेल्सियस रहा। वहीं अंबिकापुर में अधिकतम तापमान 33.5 डिग्री तक नीचे लुढ़क गया। यह सामान्य से एक डिग्री सेल्सियस कम है।

प्री-मानसून की बारिश का बढ़ा दायरा:रायपुर, बिलासपुर, बस्तर सहित प्रदेश के कई स्थानों पर बरसेंगे बादल; नमी के चलते चिपचिपी गर्मी का अहसास

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest