Friday, September 30, 2022

गुरुपूर्णिमा में गुरुजनों का महत्व बताया गया

More articles


Publish Date: | Wed, 13 Jul 2022 05:42 PM (IST)

बिलासपुर। स्वामी आत्मानंद शासकीय उत्कृष्ठ विद्यालय मरवाही में गुरु पूर्णिमा के पर्व पर एक विशेष सभा रखी गई इसमें जिसमे उन्हें गुरुपूर्णिमा में गुरुजनों का महत्व बताया गया साथ ही साथ छात्रों को सनातन संस्कृति में गुरु देवता के तुल्य माना गया है इस संदर्भ के बारे में भी बताया गया।

उन्होंने कहा गुरु को हमेशा से ही ब्रह्मा, विष्णु और महेश के समान पूज्य माना गया है। वेद, उपनिषद और पुराणों का प्रणयन करने वाले वेद व्यासजी को समस्त मानव जाति का गुरु माना जाता है। शास्त्रों में ‘ गु ‘का अर्थ बताया गया है- अंधकार और ‘रु’ का का अर्थ- उसका निरोधक। गुरु को गुरु इसलिए कहा जाता है कि वह अंधकार को हटाकर प्रकाश की ओर ले जाता है। प्राचीन काल में शिष्य जब गुरु के आश्रम में नि:शुल्क शिक्षा ग्रहण करते थे तो इसी दिन पूर्ण श्रद्धा से अपने गुरु की पूजा का आयोजन करते थे।इस दौरान मरवाही थाना प्रभारी ने भी सभी गुरुजनो एवं बच्चों को संबोधित किया व जिन बच्चों ने 26 जनवरी 2022 में बैंड वादन किया था उन्हें पुलिस प्रशासन द्वारा प्रशस्त्री पत्र का वितरण किया गया । इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में मरवाही थाना प्रभारी अनिल अग्रवाल रहे एवं विद्यालय के प्राचार्य शैलेन्द्र अग्निहोत्री ने छात्र-छात्राओं एवं समस्त शिक्षक-शिक्षिकाओं का मार्गदर्शन किया ।

Posted By: Yogeshwar Sharma

 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest