Tuesday, October 4, 2022

खेतों में थरहा तैयार खंडवर्षा से पिछड़ रही धान की खेती

More articles


कोरबा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। आषाढ़ महीना के अंतिम चरण में होने के बाद भी खेती-किसानी के कार्य में प्रगति नहीं आई है। किसानों ने खेतों में थरहा तैयार कर ली है किंतु खंडवर्षा की वजह से पानी की कमी बनी हुई है, यह धान की रोपाई के लिए रोड़ा बना हुआ है। लंबे समय तक मानसून की निष्क्रियता बनी रही तो प्रति हेक्टेयर उपज में कमी आने की संभावना है।

सिंचाई की पर्याप्त सुविधा नहीं होने की वजह से जिले के किसानों के लिए आज भी खेती मानसून का जुआ बना हुआ है। खेती की पुरजोर तैयारी पर अपर्याप्त बारिश बाधा साबित होने लगी है। पिछले कुछ चार दिनो से लगातार उमस और कम वर्षा की स्थिति बनी हुई है। हालाकि सोमवार की सुबह कुछ स्थानों पर बारिश हुई। खंड वर्षा के तौर पर जारी खेती के लिए पर्याप्त नहीं है। जैसे जैसे धान रोपाई के लिए तैयार हो रहे हैं खेतो में अतिरिक्त पानी की कमी हो रही है। पानी की समस्या को देखते हुए किसान चिंतित नजर आ रहे हैं। जिन खेतों में थरहा लगाया गया है उसमे भी पानी की कमी होने लगी है। पिछले वर्ष की तुलना में वर्षा पिछड़ चुकी है। बताना होगा कि पिछले कुछ दिनों से बादल की आंख मिचौल किसानों के लिए परेशानी का सबब बनने लगा है। अब तक दर्ज की गई वर्षा पर गौर किया जाय तो सबसे अधिक वर्षा 358.9 मिमी कटघोरा व सबसे कम 130.6 मिली मीटर हरदीबाजार तहसील में दर्ज की गई है। किसानों की माने तो खंड वर्षा का दौर जारी रही तो खेती पिछड़ने की पूरी संभावना है। आसमान में बदली होने से अब भी किसानों की आस बंधी है। मौसम विशेषज्ञों की माने तो पिछले वर्ष की अपेक्षा इस वर्ष बेहतर बारिश होगी।

0 अब तक हुई वर्षा (मिलीमीटर में )

विकासखड- वर्षा मिमी में

कोरबा- 199.6

करतला- 294.8

कटघोरा- 358.9

दर्री- 158.0

पाली- 227.2

हरदीबाजार- 130.6

पोड़ी उपरोड़ा- 223.8

Posted By: Nai Dunia News Network

 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest